इतनी सारी बीमारियां क्यों हैं?

“क्योंकि लोग प्रकृति के साथ नियंत्रित इंद्रियों और सामंजस्य के बिना जी रहे हैं, इसलिए अधिक से अधिक भयानक बीमारियां हमेशा आ रही हैं। इससे पहले तपेदिक या कैंसर नहीं था, कोई एईड्स नहीं था; अब ये सभी चीजें एक-एक करके आ रही हैं, यह सब अनियंत्रित इंद्रियों के कारण...

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी – गुरु महाराज का आधिकारिक स्वास्थ्य अद्यतन

शनिवार, ६ अक्तुबर, २०१८ यकृत और गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद ५२ वें दिन की समाप्ति २१:३० बजे (भारतीय मानक समय) अद्यतन # ६४ प्रिय गुरु-परिवार, शिष्यगण और श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी महाराज के शुभचिंतक, भगवान श्री कृष्ण की कृपा से गुरु महाराज पिछले दो दिनों से सतर्क रहे...

संरक्षित कैसे रहें

“गहरे पानी की मछली आद्यात्मिक महासागर में गहराई तक नीचे जाती है, अमृत के प्रवाह में तैरती है। यदि कोई व्यक्ति फुला हुआ है और शीर्ष पर आता है, तो कोई भी माया की उन जाल में फंस सकता है। लेकिन यदि कोई बहुत विनम्र और भक्ति के अमृतमय महासागर की गहराई में रहता है तो...

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी – गुरु महाराज का आधिकारिक स्वास्थ्य अद्यतन

गुरुवार, ४ अक्तुबर, २०१८ यकृत और गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद ५० वें दिन की समाप्ति २२:०० बजे (भारतीय मानक समय) अद्यतन # ६३ प्रिय गुरु-परिवार, शिष्यगण और श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी महाराज के शुभचिंतक, पिछली रात पीठ में दर्द के कारण गुरु महाराज अपनी विक्षुब्ध नींद के...

एक प्रचारक का उत्तरदायित्व

“एक प्रचारक जो बाहर जा रहा है, उसका कर्तव्य है ठीक उसी तरह संदेश को दोहराना जिस तरह उसने सुना है। एक प्रचारक भी उत्तरदायी है, वह किसी को गलत दिशा निर्देश देता है, यदि वह जो निर्देश देता है वह साधु, शास्त्र और गुरु के अनुसार प्रामाणिक नहीं है, तो वह उत्तरदायी है।...

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी – गुरु महाराज का आधिकारिक स्वास्थ्य अद्यतन

बुधवार, ३ अक्तुबर, २०१८ यकृत और गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद ४९ वें दिन की समाप्ति अंत २२:०० बजे (भारतीय मानक समय) अद्यतन # ६२ (संक्षिप्त) प्रिय गुरु-परिवार, शिष्यगण और श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी महाराज के शुभचिंतक, गुरु महाराज सुबह में सतर्क थे। उन्होंनें कहा कि वे...