हम सागर के बीच में हैं

“हम माया के सागर के बीच में हैं और हम माया की लहरों पर तैर रहे हैं। विभिन्न प्रकार की लहरें विभिन्न प्रकार की भौतिक स्थितियाँ, भौतिक प्रलोभन, भौतिक सुखों की तरह हैं, लेकिन जैसे ही मनुष्य लहर के द्वारा उपर उठता है, अगले मिनट में वह लहर द्वारा नीचे फेंक दिया जाता...

समझ तब आती है जब वे हरे कृष्ण का जप करते हैं

“आप कृष्ण भावनामृत के बारे में किसी को उपदेश देने की कोशिश करते हैं – लेकिन जब तक वे हरे कृष्ण का जप नहीं करते हैं, तब तक उनके लिए वास्तव में यह समझना असंभव है कि आप किस बारे में बात कर रहे हैं। सैद्धांतिक रूप से कुछ लोग विचार प्राप्त करने में अधिक निपुण...

जेपीएस कार्यालय से महत्वपूर्ण संदेश

गुरु महाराज की इच्छा के अनुसार जेपीएस कार्यालय डेटाबेस को अद्यतन करने और व्यवस्थित करने की कोशिश कर रहा है ताकि हमारे पास प्रासंगिक अद्यतन डेटा हो जो गुरु महाराज को शिष्यों के साथ जुड़ने और ई-केयर सिस्टम बनाने में मदद कर सके। कृपया अद्यतन करने के लिए नीचे दि गई लिंक...

आप नहीं जानते हैं कि कौन आपका ध्यान रख रहा है

“जब आप आद्यात्मिक साहित्य वितरित कर रहे होते हैं, और आप कुछ परमानंद महसूस कर रहे होते हैं, तो आप नहीं जानते हैं कि उस समय कौन आपका ध्यान रख रहा है, लेकिन आप सुनिश्चित कर सकते हैं कि श्रील प्रभुपाद, आध्यात्मिक गुरु, गुरु-शिष्य परंपरा, वे आपके साथ होते हैं। यह...

एकमात्र नैतिकता है…

“मनुष्य को पूरी तरह से ईमानदार, स्पष्टवादी होना पड़ता है। फिर मनुष्य उच्चतम स्तरों पर भक्तिमय सेवा में उन्नति कर सकता है। बेशक,शुरुआत में, भक्तिमय सेवा के कारण में कुछ भी, कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन जैसे मनुष्य और अधिक जिम्मेदार होता है, तब उसे कृष्ण के साथ...

सभ्यता

“सभ्यता के लिए सभ्य माना जाने वाली नीचे की रेखा यह है कि उन्हें कम से कम वर्णाश्रम प्रणाली का पालन करना चाहिए, और निश्चित रूप से सभ्यता की पूर्णता तब है जब वे वास्तव में पूरी तरह से ईश्वर भावनाभावित हो।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी २८ मई १९८४ न्यू...