भक्त सर्वोच्च होता है

“वे लोग जो ईन्द्रीय तृप्ति के माध्यम से, यहां तक कि धार्मिक सिद्धांतों द्वारा भौतिक सुख की इच्छा रखते हैं, वे लोग जो योगिक शक्तियों, सिद्धि के परिग्रह द्वारा आनंद करने की इच्छा रखते हैं या वे लोग जो मुक्ति चाहते हैं, उन सभी के मन उत्तेजित होते हैं। उनमें से कोई...

वे कभी वृद्ध नहीं होते हैं

“भगवान सदैव युवा रहते हैं, वे कभी वृद्ध नहीं होते हैं और वे हमेशा अपने भक्तों के साथ प्रेमपूर्ण संबंधों का आनंद लेते हैं और हम भगवान् के साथ उस प्रेमपूर्ण सम्बन्ध का हिस्सा हैं लेकिन हम आध्यात्मिक जगत से पतित हो गए हैं और इस भौतिक जगत में आ गए हैं। इसलिए हम पतित...

सबसे छोटा मार्ग

“कृष्ण कहते हैं कि वे जिस अवतार में अवतार लेते हैं उसके अनुसार, वे मुख्य रूप से विशिष्ट मनोदशा को ग्रहण हैं। उदाहरण के लिए, नरसिंह देव के रूप में, उनमें क्रोध की प्रधानता है, भगवान चैतन्य के रूप में, उन्हें दया देने की इच्छा की एक प्रधानता है। इस तरह, विभिन्न...

प्रभुपाद ने हमें क्या जिम्मेदारी दी है?

“प्रभुपाद ने अपने सभी अनुयायियों को गुरु शिष्य परंपरा में जो जिम्मेदारी दी है और जो कि उनके पहले पिछले आचार्यों द्वारा और अंततः भगवान चैतन्य महाप्रभु द्वारा दी गई है, वह यह है कि हर व्यक्ति से, हर घर से संपर्क किया जाना चाहिए और भगवान चैतन्य महाप्रभु का आदेश –...

भगवान के सबसे प्रिय कौन हैं?

“भगवान कृष्ण भगवद-गीता के अठारहवें अध्याय में बताते हैं कि जो लोग उनके भक्तों को भगवद-गीता या भक्तिमय सेवा का विज्ञान समझाते हैं, वे भगवान के सबसे प्रिय भक्त हैं। भगवान बहुत दयालु हैं। वे देखना चाहते है कि बद्ध आत्माएं उनकी शरण में वापस लौट आयें।” श्री...

जप की प्रक्रिया काम करती है

“जप की प्रक्रिया काम करती है; यह एक सिद्धांत नहीं है, यह ऐसा कुछ नहीं है जिसमें आपको अंध विश्वास करना पड़े, यह कुछ ऐसी चीज है जो वास्तव में और तथ्यात्मक रूप से काम करती है। यही कारण है कि जब भक्त जप करते हैं, तब स्वयं पर नियंत्रण करना उनके लिए कठिन होता है, तब...