आप कोई भी सेवा करने में सक्षम हो सकते हैं

“प्रत्येक भक्त, वह जो भी सेवा करने में सक्षम हो, बस उसे इस तरह करने का प्रयास करे जिससे कृष्ण प्रसन्न हो और लोग कृष्ण के अधिक से अधिक करीब आए। यही पूर्णता है।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १७ अक्टूबर १९८२ ऑरलैंडो,...

भले ही हम एक काम पूरी तरह से कर सके

“भक्तिमय सेवा में भले ही हम एक काम पूरी तरह से कर सके, चाहे वह लेखन हो, या पुस्तकें वितरित करना या सिर्फ अर्चाविग्रह के लिए भोग बनाना, या सेवा करना या सफाई करना या जो भी हो… एक विशेष सेवा, अगर हम इसे बहुत अच्छी तरह से कर सकते हैं, तो वास्तव में यही शुद्ध...

इसे लें, इसका आनंद लें और इसे हर जगह फैलाएं

“भगवान चैतन्य आए और उन्होंनें आप सभी के लिए भगवान के प्रेम के बीज छोड़ दिए। इसे लें, इसका आनंद लें और इसे हर जगह फैलाएं !!” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी २२ अप्रैल २०१३ मायापुर, पश्चिम बंगाल,...

श्रील प्रभुपाद ने बिना-थके हमें उपदेश दिया

श्रील प्रभुपाद ने बिना-थके हमें उपदेश दिया, अपने शिष्यों को और आम जनता को उपदेश दिया और एक नये विश्व की स्थापना करने का प्रयास किया। वास्तव में वे पहले से ही इसे स्थापित कर चुके हैं। यह उनके दिमाग में पहले से मौजूद है। उनकी तीव्र इच्छा से पूरी दुनिया पहले ही इस भौतिक...

हर बार जब भी कोई एक पुस्तक खरीदी जाती है…

“हर बार जब भी कोई एक पुस्तक खरीदी जाती है, तो इसका मतलब है कि इसके साथ नई किताबें भी प्रकाशित होंगी, साथ ही भारत में प्रभुपाद की परियोजना का निर्माण भी किया जाएगा। इसलिए, श्रील प्रभुपाद की अधिक पुस्तकें खरीदने, पुस्तकों को वितरित करने के लिए यह एक और प्रोत्साहन...

अनर्थ-निवृत्ति की अवस्था

“भक्तिमय जीवन में अनर्थ-निवृत्ति नामक एक अवस्था होती है। इस अवस्था के दौरान, यह देखा जाता है कि हम कभी-कभी ‘मोटे’ या उत्साही तरीके से सेवा करते हैं, और अन्य समय में हम ‘कृश’ या निरुत्साही तरीके से सेवा करते हैं। इस तरह, हमारी भक्तिमय सेवा...