जो भक्त प्रचार कर रहा है

“क्योंकी जो भक्त प्रचार कर रहा है, जो भक्त समर्पित है और कृष्ण पर निर्भर है, कृष्ण के पूरी तरह से दिखाई देने से पहले ही, जैसे सूर्य पूर्व में उगता है लेकिन आकाश प्रदीप्त हो जाता है, वैसे व्यक्ति की चेतना भी पहले से ही प्रदीप्त हो जाती है और कृष्ण भावनामृत से...

सेवा कैसे सुखद और मधुर बन जाती है

“भजन-क्रिया करने से, मनुष्य अनर्थों से मुक्त हो जाता है और धीरे-धीरे सुधर जाता है। उसके बाद निष्ठा आती है, और निष्ठा से रूचि या स्वाद आता है; उसके बाद सेवा सुखद और मधुर बन जाती है। यह भक्तिमय सेवा में रूचि है।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १४ मई २०१९,...

भक्तिमय सेवा के वृक्ष को पानी दो

“भक्ति सेवा के वृक्ष को पानी दो और यह कृष्ण के प्रति प्रेम के फल को लाते हुए स्वतः बढ़ेगा। श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी “स्पिरिच्युअल ट्रुथ फ्रोम सायबर स्पेस”...

एक साथ मिलकर युगल रूप में कृष्ण की सेवा करना

“सामान्य रूप से, बद्ध आत्मा इस भौतिक संसार का आनंद लेने की कोशिश करती है। गृहस्थ-आश्रम में लोग प्रवृत्ति-मार्ग को अपनाते हैं। यदि गृहस्थ लोग युक्त-वैराग्य (कृष्ण की प्रसन्नता के लिए सब कुछ करना) का अभ्यास कर सकते हैं, तो उनका जीवन सिद्ध हो जाएगा। मुझे खुशी है कि...

शरीर की देखभाल की जिम्मेदारी हमारी है

“यदि हम इस शरीर को कृष्ण की संपत्ति मानते हैं, तो हम पर ध्यान रखने की जिम्मेदारी है। इसलिए, हम भगवान कृष्ण की सेवा के रूप में अपने स्वास्थ्य के मुद्दों को हल करने का प्रयास करते हैं।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी गुरु महाराज ३ अगस्त २०१९ चेन्नई,...

कृष्ण भावनामृत का अर्थ है हम उत्कृष्ट सुख के लिए प्रयास करें

“भौतिक जगत में हम आनंद लेने जा रहे हैं और हमें भौतिक जीवन भुगतना पड़ रहा है – हम इससे बच नहीं सकते। कृष्ण भावनामृत का अर्थ है हम उत्कृष्ट सुख के लिए प्रयास करते हैं और शांतिपूर्ण रहने के लिए हम अपने भौतिक जीवन को नियमित करते हैं। कभी-कभी यह सादा जीवन और...