जैसे जल-प्रपात में खड़े हों

“जब कोई मनुष्य भगवान का नाम जपता है तब यह स्नान के समान है। यह शुद्धिकरण की तरह है, जैसे जल-प्रपात में खड़े हों, इसका उल्लेख है – सभी प्रकार की गंदगी से साफ हो जाता है। लेकिन फिर यदि मनुष्य ईसे गंभीरता से नहीं लेता है, तो ईसे हाथी – स्नान के रूप में...

बाधाएँ भक्तिमय सेवा का परिष्करण करती हैं

“ये सब, पीसाई और पिटाई, और दहन, ये सभी हिंसक गतिविधियों की तरह हैं। मेरा मतलब है कि वे बहुत हिंसक गतिविधियाँ हैं; तो भी जब चंदन, गन्ना, और सोना के साथ प्रयुक्त की जाती है, तब वे वास्तव में कुछ अद्भुत चीज पैदा करती हैं। इसलिए भौतिक जीवन, हम हमेशा सभी प्रकार की...

हमें उस व्यक्ति को क्यों और कैसे माफ करना चाहिए जिसने हमारे साथ गलत किया है ?

“क्योंकि हम चाहते हैं कि हमारे द्वारा किए गए अपराधों के लिए भगवान भी हमें क्षमा करें। इसलिए हम दूसरों को क्षमा करना चाहते हैं। दूसरों के साथ वैसा ही करें जैसा आपने अपने साथ किया है।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी ३० जनवरी २०१९ चेन्नई,...

वैदिक ज्ञान – खुले मन से सुनें

“जब हम वैदिक ज्ञान से संपर्क करते हैं, तो प्रणाली यह है कि मनुष्य को चाहिए कि वैदिक ज्ञान को खुले मन से सुने, और इसके बाद, वेदों पर पूछताछ की जा सकती है, लेकिन उन्हें चुनौती नहीं दी जानी चाहिए। न ही, उन्हें कुछ तर्कपूर्ण मानसिकता से समझा जा सकता है। लेकिन उन्हें...

हम बस लागू कर रहे हैं

“श्रील प्रभुपाद के चरण कमलों की धूल के एक कण से सम्पूर्ण ब्रह्माण्डों का उद्धार होता है। हम बस लागू कर रहे हैं। बस हमें यह महसूस करने की अनुमति है कि हम कुछ सेवा कर रहे हैं, हालांकि सब कुछ पहले से ही उनके द्वारा किया गया है। हम बस साधन हो सकते हैं, अपने आप को उनकी...

भगवान जन्म, मृत्यु, वृद्धावस्था या रोग का अनुभव नहीं करते हैं

“भगवान जन्म, मृत्यु, वृद्धावस्था या रोग का अनुभव नहीं करते हैं। जब भी हम भौतिक अस्तीत्व या व्यक्तियों की इन सीमाओं को परम भगवान पर पर थोपते हैं, तो हम एक बड़ी गलती करते हैं और इस तरह से अपराध करते हैं। हमें भगवान पर किसी भी तरह की सीमाओं को नहीं थोपना चाहिए जिसे...