अनर्थ-निवृत्ति की अवस्था

“भक्तिमय जीवन में अनर्थ-निवृत्ति नामक एक अवस्था होती है। इस अवस्था के दौरान, यह देखा जाता है कि हम कभी-कभी ‘मोटे’ या उत्साही तरीके से सेवा करते हैं, और अन्य समय में हम ‘कृश’ या निरुत्साही तरीके से सेवा करते हैं। इस तरह, हमारी भक्तिमय सेवा...

हमें माया से सावधान रहना होगा

हमें माया से सावधान रहना होगा। जब एक भक्त का ह्रदय बहुत नरम होता है, तो वास्तव में यह भक्ति का बीज रोपण करने के लिए एक पका हुआ स्थान होता है। यह भौतिक गतिविधि के बीज को रोपण करने के लिए भी एक पका हुआ स्थान बनाता है। इसलिए हमें बहुत सावधानी बरतनी होगी ताकि भौतिक...

हमारी सेवा को भौतिक रूप में देखना

“हम अपनी सेवा को भौतिक रूप में देखना शुरू कर सकते हैं यदि हम जप और श्रवण द्वारा चेतना को शुद्ध नहीं करते हैं।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १२ फरवरी १९८६ न्यू तालवन फार्म, संयुक्त राज्य...

कृष्ण केवल तब भौतिक सुविधा देंगे यदि…

“आध्यात्मिक गुरु और कृष्ण केवल तब भौतिक सुविधा देंगे यदि जब कोई व्यक्ति परिपक्व है, यदि कोई व्यक्ति उस स्थिति को सहन करने के लिए पर्याप्त परिपक्व है और इसे ठीक से संलग्न करें और इसे कृष्ण की सेवा में शामिल करें।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १६ जून, १९८१...

आध्यात्मिक गुरु शिष्य की कसौटी करते हैं

“आध्यात्मिक गुरु शिष्य की कसौटी करते हैं, कृष्ण भी कसौटी करते हैं – क्या वह वास्तव में निष्ठावान है? यदि कसौटी किये बिना, कोई व्यक्ति निष्ठाहीन है तो यह अच्छी बात नहीं है, मनुष्य की कसौटी होनी चाहिए। और मनुष्य को चाहिए की वह कृष्ण द्वारा दि गई किसी भी...

इसलिए हम कष्ट भोग रहे हैं

“आज मूल रूप से हर कोई ईश भावनामृत या आत्म-साक्षात्कार के अलावा अन्य चीजों में अधिक रुचि रखता है। इसीलिए हम कष्ट भोग रहे हैं।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १७ सितंबर १९७९ लॉस एंजेलिस,...