कोई भी भगवान नहिं बन सकता

“अभी हंमें हर सदी में ऐसे लोग देखते हैं जो भगवान होने का दावा करते हैं! हर साल वे आ रहे हैं, हर महीने, हर हप्ते, हर दिन! कुछ नए भगवान आ रहे हैं! लेकिन वे बारिश भी नहीं ला सकते, वे सिंचाई परियोजना करना चाहते हैं ! तो भगवान ही भगवान हैं – कोई भी भगवान नहिं...

आपको आगे बढ़ने के लिए अच्छे संग की जरूरत है

“आपको (कृष्ण भावनामृत में) आगे बढ़ने के लिए अच्छे संग की जरूरत है। उपदेशमृत में कहा गया है कि भक्तिमय सेवा के लिए अनुकूल और प्रतिकूल गतिविधियाँ हैं। और अनुकूल गतिविधियों में से एक है भक्तों के साथ संग करना और प्रतिकुल गतिविधि है अभक्तों का संग करना। भक्तों को...

सरलता का मतलब है कि आप दुश्मन को भी सत्य कह सकते हैं

“आम तौर पर अज्ञानता में लोग, जब आप उन्हें ज्ञान देने के लिए उपदेश देते हैं, तो वे क्रोधित हो जाते हैं। ज्ञान के कारकों में से एक को सरलता के रूप में जाना जाता है। सरलता का अर्थ है कि आप किसी दुश्मन को भी स्पष्टवादितासे और बिना द्वैधता के सत्य कह सकते हैं। जड...

भगवान को जैसे वे है वैसे स्वीकार करो

“एक धर्म का क्या उपयोग है जो भगवान को जैसे वे है वैसे स्वीकार नहीं करता? लेकिन अधिकांश मामलों में, आज लोग जिस धर्म को समझ रहे हैं, यहां तक ​​कि जो मूल रूप से शुद्ध है, इतनी गलत व्याख्याओं के कारण, वे भी विकृत तरीके से समझ रहे हैं।” श्री श्रीमद् जयपताका...

सभी में दिव्य चिंगारी है

“जब हम सोचते हैं कि सभी में दिव्य चिंगारी है, सभी में परमात्मा है और वे सभी शुद्ध शाश्वत आत्माएं हैं तो आपको लगेगा कि आप उनकी मदद करना चाहते हैं। उन्हें क्यों सहना चाहिए? उन्हें बार-बार इन सबसे क्यों गुजरना चाहिए? श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १२ फरवरी, २०११...

केवल हमारे मन को अंतर्लिन करें…

“हम केवल अपने मन को गुरु के, वैष्णवों के चरण कमलों में अंतर्लिन करना चाहते हैं। वे शुभ हैं, वे भव्यता से सभर हैं क्योंकि उनमें कृष्ण की कृपा और आशीर्वाद की विशेष गुणवत्ता है।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी १० जून १९८१ सेंट लुइस,...