हम बहुत भाग्यशाली हैं

“हम इस युग में मनुष्य शरीर प्राप्त करने के लिए बहुत भाग्यशाली हैं। यदि हम गौरांग महाप्रभु के चरण कमलों का आश्रय नहीं लेते हैं, तो हमारा मनुष्य जीवन बर्बाद है। ए.सी. भक्तिवेदांत स्वामी श्रील प्रभुपाद ने पूरे विश्व में गौरांग का नाम और पवित्र नाम का प्रसार किया।...

कृष्ण के नाम में सबसे अधिक शक्ति है

“कृष्ण के नाम में सबसे अधिक शक्ति और सामर्थ्य है। कृष्ण और उनका नाम अभिन्न है। यदि हर कोई कृष्ण के नाम का जप करता है, तो वे पूरी तरह से बदल जाएंगे।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी ११ जुलाई २०१६ कोलकाता,...

वे वास्तव में उपस्थित हैं

“तो हमें समझना चाहिए कि कृष्ण, रुक्मिणी-द्वारकाधीश, गुरु-गौरांग, निताई-गौर, जगन्नाथ सुभद्रा बलराम, वे वास्तव में उपस्थित हैं। यदि हम उन्हें नहीं देख पा रहे हैं, हम उनके उद्देश्य को समझ नहीं पा रहे हैं, तो यह हमारा दुर्भाग्य है, हमें इसके लिए शोक करना...

कृष्ण के प्रति जागरूक होना

“कृष्ण के प्रति जागरूक होने का अर्थ है कि व्यक्ति पहले से ही मुक्ति के उत्क्रान्तिवादी मंच से ऊपर है। व्यक्ति पहले से ही एक मुक्त आत्मा होता है। इसलिए, वह पहले से ही भौतिक मंच से बहुत आगे होता है।” श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी ५ अप्रैल १९८६ अटलांटा, संयुक्त...

सर्वोच्च पद प्राप्त करना

“शुद्ध वैष्णवों के पीछे दासानुदास के सर्वोच्च पद को प्राप्त करने की स्वतः इच्छा होती है। और उस इच्छा के पीछे कोई भौतिकवादी भाव नहीं होता है। और कृष्ण के साथ उस शुद्ध संबंध में, किसी भी भौतिकवादी स्वाद का हल्का स्पर्श भी नहीं होता है। नहीं। कोई धोखा देने की...

चेतना ने चरण कमलों पर लंगर डाला हुआ है

“यदि हमारी चेतना ने गुरु और गौरांग के चरण कमलों पर लंगर डाला है, तो हम कृष्ण की ओर खिंच लिए जाएंगे। यदि हमारी चेतना ने भौतिक जीवन के कीचड़ में लंगर डाला है, तो भले ही हम भी कृष्ण की ओर वापस खेने का यह दिखावा करें, हम प्रगति नहीं करेंगे।” श्री श्रीमद्...