“हमें श्रील प्रभुपाद के आदेशों का पालन करने के लिए बहुत सावधान रहना चाहिए, जैसा कि उनके साहित्य में दिया गया है और जैसा कि शुद्ध भक्तिमय सेवा के मनोभाव में बिना किसी हेतु से प्रेरित हुए वे बहुत शुद्ध तरीके से नीचे आ रहे हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता चाहे कोई कितना भी महान क्यों न हों, यदि हम लापरवाह हैं तो हम तीनों में से किसी भी गुण से दूषित हो सकते हैं।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी
२१ जनवरी, १९८२

0

Your Cart