“जब तक हम भगवान के नियमों का पालन नहीं करते, जब तक हम कृष्ण के शासन का पालन नहीं करते हैं, तब तक हम खुश नहीं हो सकते हैं, और हम खुद को कृष्ण के हाथ में रख देते हैं कि अब मैं बस आपके निर्देशों का पालन करने जा रहा हूं, उस बिंदु तक, कोई आश्रय नहीं है; इस प्रकार मनुष्य को बार बार-बार अनचाही परिस्थितियों में मजबूर होना पड़ता है।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी
८ जून १९८०
कलकत्ता, भारत

0

Your Cart