“हम अपनी सेवा को भौतिक रूप में देखना शुरू कर सकते हैं यदि हम जप और श्रवण द्वारा चेतना को शुद्ध नहीं करते हैं।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी
१२ फरवरी १९८६
न्यू तालवन फार्म, संयुक्त राज्य अमेरिका

0

Your Cart