मायापुर जाने के रास्ते पर – गुरु महाराज शांतिपुर – श्री अद्वैत गोसाई के श्रीपाट में रुक गए और अपने प्रणाम अर्पण किये – क्योंकि आज शांतिपुर महोत्सव है – श्रीपाद माधवेन्द्र पुरी का तिरोभाव महोत्सव। और जो कोई भी इस तिथि पर खिचडी प्रसादम यहां लाता है, वह “गोविंद की भक्ति” प्राप्त करेगा – यह एक भविष्यवाणी है। जब गुरु महाराज शांतिपुर पहुंचे, तब श्री शांतिपुर मंदिर के महंत – श्री प्रसन्न गोस्वामी को यह संदेश दिया गया। और वे तुरंत श्री अद्वैत आचार्य की माला के साथ बाहर आए और गुरु महाराज से मिले और माला अर्पण की और कहा, “हम सिर्फ आपके लिए पूरे दिन इंतज़ार कर रहे थे। हम आपके दर्शन करके बहुत खुश हैं।”और अपने पुत्र से परिचय करवाया, और गुरु महाराज का आशीर्वाद प्राप्त किया। और गुरु महाराज ने खिचडी प्रसादम लिया।

श्याम रसिक प्रभू का विवरण

0

Your Cart