व्रजराज कानाई दास हमें मालदा शहर में दो मंदिरों में ले गए। लक्ष्मी नारायण और निताई गौर मंदिर और राधा गोकुलनाथ मंदिर।

हम २३५ या इतने ही भक्तों से मिले, विभिन्न भक्त समुदाय सदस्यों ने मुझे प्रसाद अर्पण कीया और दोनों मंदिरों में सभी सुंदर कृष्ण केन्द्रित गृहस्थों को देखने का अच्छा समय था।

मैंने यह भी सुना है कि उनकी रामकेली में जमीन लेने की योजना है, जो रुप और सनातन गोस्वामी का स्थान है।

0

Your Cart