यदि आप भगवान की अवज्ञा करते हैं, तो प्रकृति या कुदरत आपको बहुत तरीकों से परेशान करेगी। और जैसे ही आप विनम्र बन जाते हैं, पुर्ण पुरुषोत्तम भगवान श्रीकृष्ण के प्रति आत्मसमर्पण करते हैं, तब कोई और प्राकृतिक उपद्रव नहीं होगा। १९००, १८९८ में मेंनें सुना है-मेरा जन्म १८९६ में हुआ था – इसलिए मैंने सुना है, मैंने यह देखा भी है, मुझे याद है, कलकत्ता में, १८९८ में एक बहुत ही ज़हरीले प्रकार की प्लेग महामारी हुई थी। इसलिए कलकत्ता तबाह हो गया था। सभी लोग व्यावहारिक रूप से कलकत्ता से चले गए थे। हररोज सैकड़ों लोग मर रहे थे। मैं एक साल या डेढ़ साल का था। मैंने देखा है कि क्या हो रहा था, लेकिन वह प्लेग की महामारी थी। यह मुझे पता नहीं था। मैंने, बाद में, मैंने अपने माता-पिता से सुना था। तो एक बाबाजी, उन्होंने संकीर्तन, हरे कृष्ण कीर्तन का आयोजन किया। जब कोई और रास्ता नहीं था, तो उन्होंने पुरे कलकत्ता में संकीर्तन का आयोजन किया। और संकीर्तन में, सभी लोग, हिंदू, मुस्लिम, ईसाई, पारसी, सभी शामिल हुए। और वे आ रहे थे, वे सड़क से सड़क, सड़क से सड़क, हर घर में प्रवेश कर रहे थे। इसलिए कि महात्मा गांधी रोड, १५१, आपने देखा है। हमने संकीर्तन पार्टी का बहुत अच्छी तरह से स्वागत किया। प्रकाश था, और मैं बहुत छोटा था, मैं भी नाच रहा था, मैं याद कर सकता हूं। जैसे हमारे छोटे बच्चे कभी-कभी नाचते हैं। मुझे याद है। मैं केवल उन व्यक्तियों के घुटनों तक देख सकता था जो जुड़ गए थे। तो प्लेग थम गया। यह सच है। हर कोई जो कलकत्ता के इतिहास को जानता है, प्लेग को संकीर्तन आंदोलन द्वारा समाप्त किया गया था।

निश्चित रूप से, हम सिफारीश नहीं करते हैं कि संकीर्तन का उपयोग किसी भौतिक उद्देश्य के लिए किया जाना चाहिए, वह नाम-अपराध है, नाम-अपराध। शम स भक्ति क्रिया (?) प्रमाण। संकीर्तन, आप कुछ भौतिक उद्देश्य के लिए संकीर्तन का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन इसकी अनुमति नहीं है।

श्रील प्रभुपाद द्वारा श्रीमद् भागवतम् १.१०.५ पर प्रवचन के कुछ अंश
२० जून १९७३
मायापुर

0

Your Cart