“जब हम मुरारी या कृष्ण का आश्रय लेते हैं तो हम भय के सागर को पार कर जाते हैं, हम निर्भय हो जाते हैं। भज हू रे मन श्री-नंद-नंदन, अभय-चरणारविन्द रे, भक्तिमय सेवा में पूरी तरह से निर्भय।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी
२७ सितंबर १९८४
मलबेरी, टेनेसी

0

Your Cart