“कृष्ण के प्रति जागरूक होने का अर्थ है कि व्यक्ति पहले से ही मुक्ति के उत्क्रान्तिवादी मंच से ऊपर है। व्यक्ति पहले से ही एक मुक्त आत्मा होता है। इसलिए, वह पहले से ही भौतिक मंच से बहुत आगे होता है।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी
५ अप्रैल १९८६
अटलांटा, संयुक्त राज्य अमेरिका

0

Your Cart