“हम कृष्ण की कृपा को अहैतुकी कहते हैं, क्योंकि कोई कारण नहीं है क्यों उन्हें कृपा देनी चाहिए। उन्हें किसी को भी कृपा करने की आवश्यकता नहीं है। ऐसा नहीं है कि कोई भी कृष्ण की कृपा के लिए उचित विनिमय में कुछ भी कर सकता है।”

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी गुरु महाराज
ए स्पिरिच्युअल अवॅकनिंग पुस्तक से

0

Your Cart