पुरूषोत्तम महीना शुरु हो रहा है!

२०१८/०९/०५ शिविर: ग्लोबल अस्पताल, चेन्नई केन्द्र स्थल: श्री मायापुर धाम प्रिय भक्तगण, श्रीला प्रभुपाद की जय! कृपया मेरी शुभकामनाएं स्वीकार करें। तीन साल बाद एक बार फिर से हमें १५ मई से १२ जून २०१८ तक सबसे शुभ मास “पुरुषोत्तम मास” मनाने का एक शानदार मौका...

यह ऐसा कुछ नहीं है जो यांत्रिक है

“(एक वेंडिंग मशीन में) तुम २५ सेंट डालो और अपनी कैंडी बार बाहर निकालो। आप २५,००० हरे कृष्ण मंत्र डालो और आप अपनी भक्ति बाहर निकालो! नहीं। यदि आप नहीं चाहते है, और अगर आप के पास ज्ञान नहीं है और आप की इच्छा नहीं है, और यदि कृष्ण उनकी कृपा नहीं देते है, तो फिर ऐसा...

हम १६ माला का जप क्यों करते हैं, इस संख्या के बारे में क्या विशेष है?

श्री श्रीमद् जयपताका स्वामी द्वारा उत्तर: “असल में कुछ स्थानों में, वेदों में, ऐसा कहा जाता है कि यदि आप कृष्ण के १,००,००० नामों का जप करते हैं, तो यह आपको आध्यात्मिक जगत में वापस लाने के लिए पर्याप्त है। तो संख्या १,००,००० होती है जो ६४ माला होनी चाहिए। लेकिन...

शिष्यों को गैरजिम्मेदारीपूर्वक कार्य नहीं करना चाहिए

“गैरजिम्मेदारीपूर्वक कार्य करने से, शिष्य आध्यात्मिक गुरु के लिए एक बहुत ही संदिग्ध स्थिति पैदा कर रहा है। जाहिर है, जब कोई अपने आध्यात्मिक गुरु के लिए एक बहुत खतरनाक स्थिति पैदा करता है, आप कल्पना कर सकते हैं कि उस व्यक्ति के प्रति कृष्ण का झुकाव बहुत अनुकूल...