इस्कॉन मुंबई की ४० वीं वर्षगांठ पर प्रकाशित नई पुस्तकें

इस्कॉन मुंबई की यह ४० वीं वर्षगांठ पुस्तकें प्रकाशित करने का एक उत्सव था । श्यामसुंदर प्रभु ने “चेजिंग राइनोस वीथ स्वामी” प्रकाशित कीया और लोकनाथ स्वामी ने “बॉम्बे इज माय ऑफिस” प्रकाशित कीया । इसके अलावा, आनंद मोहन दास और वृंदावनेश्वरी देवी...

गुरु महाराज इस्कॉन मुंबई की ४० वीं वर्षगांठ समारोह के अंतिम दिवस पर।

इस्कॉन मुंबई की ४० वीं वर्षगांठ समारोह का अंतिम दिवस। गुरु महाराजने मुंबई में और श्रील प्रभुपाद के साथ अपनी लीलाओं को साझा...

गुरु महाराज इस्कॉन मुंबई की ४० वीं वर्षगांठ उत्सव में

इस्कॉन मुंबई अभी ४० वीं वर्षगांठ मना रहा है। मुंबई में इस भव्य उत्सव के लिए श्रील प्रभुपाद के ९० से अधिक शिष्य उपस्थित है। १४ जनवरी,...

गुरु महाराज मुंबई में

चेन्नई रथयात्रा के बाद, ४० वीं वर्षगांठ समारोह के लिए मैं मुंबई आ चुका हुं । लेकिन उड़ान में विलंब हुआ था इसलिए हम प्रातःकाल ३:०० बजे जुहू पुंहुंचे। अभिषेक सुबह १०:३० बजे शुरू होता है। प्रसिद्ध अभिनेताओ से भरा हुआ कार्यक्रम आज शाम को मनाया जाएगा।...

जयपताका स्वामी की ओर से आपको! ११/०१/२०१८, ग्लोबल अस्पताल, चेन्नई

कुछ शिष्योंने मुझे यह कहते हुए लिखा है कि उन्होंने जप के लिए अपना रस खो दिया हैं और इसलिए उन्होंने १६ माला जप करना बंद कर दिया है। जब हम पहली बार कृष्ण भावनामृत में आते हैं, तब हम आमतौर पर किसी भी भक्त का अपराध नहीं करते हैं। तब हमारा जप बहुत शुद्ध होता है और हमको...

जयपताका स्वामी की ओर से आपको! १०/१/२०१८, ग्लोबल हॉस्पिटल, चेन्नई।

जब कोइ व्यक्ति कृष्ण भावनामृत में स्थिर हो जाता है, तब वह रस प्राप्त करता है। फिर व्यक्ति कृष्ण से जुड जाता है और फिर उनके लिए परमानंद विकसित होता है। यदि कोई अपनी साधना भक्ति को अनदेखा करता है, तो फिर वह आगे नहीं बढ़ता है। निष्ठा के स्तर में किसी को भी रस नहीं मिल...